सीयूएसबी में धूमधाम से मनाया गया 70 वां गणतंत्र दिवस 

 

बेटियाँ किसी से कम नहीं और वे ठान लें तो हर छेत्र में लड़कों को टक्कर दे सकती हैं ! इसका जीवंत उदहारण देश के 70वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर दक्षिण बिहार केंद्रीय विश्वविद्यालय (सीयूएसबी) के प्रांगण में बेटियों ने दिखाया !  गणतंत्र दिवस समारोह में विवि की छात्रा आकांक्षा ने अपने ग्रुप के साथ अलग - अलग मुद्राओं में अतभुत " मानव पिरामिड " (pyramid) का निर्माण करके "अनेकता में एकता " (Unity in Diversity) के संकल्पना को प्रस्तुत किया ! आकांक्षा एवं ग्रुप ने आश्चर्यचकित करने वाली मुद्राओं में " मानव पिरामिड " का निर्माण करके समारोह स्थल में माननीय कुलपति प्रोफेसर हरीश चंद्र सिंह राठौर, प्रति कुलपति प्रोफेसर ओम प्रकाश राय एवं पदाधिकारियों, प्राध्यापकों, विद्यार्थियों एवं अतिथियों का मन मोह लिया और काफी तालियाँ बटोरीं ! साथ ही साथ इन्होने यह साबित कर दिया कि बेटियाँ भी बेटों से किसी भी तरह कम नहीं होती हैं ! ज्ञात हो कि सीयूएसबी ने पहली बार अपने स्थाई कैंपस में गणतंत्र दिवस मनाया इसलिए समस्त विवि परिवार का मनोबल एवं उत्साह चरम पर था !

 

 

इससे पहले माननीय कुलपति प्रोफेसर हरीश चंद्र सिंह राठौर ने अपने संबोधन में कहा कि आज के परिदृश्य में देश कई छेत्रों में काफी विकास कर चूका है लेकिन कहीं-न-कहीं हमारे आपसी संबंधों की डोर कमज़ोर हुई है ! उन्होंने कहा कि आज से 30 - 40 वर्ष पूर्व देशवासियों के पास सिमित संसाधन थे और सुचना एवं प्रौद्योगिकी का इतना विकास नहीं हुआ था ! बेशक तकनिकी तौर पर देश पीछे था और उस वक़्त छोटे - छोटे काम को करने में समय लगता था, लेकिन उन कठिनाइयों के बावजूद किसी भी काम को करने में आनंद आता था क्यूंकि लोगों में आपसी संबंध काफी मजबूत थे ! लोगों में एक - दूसरे की मदद की भावना थी और कोई भी कार्य आसानी से हो जाता था ! आज हम काफी विकसित हो चुके हैं, दूसरों पर निर्भरता कम हो चुकी है लेकिन भावनात्मक संबंध कमज़ोर हो गया जो हमारे जैसे विशाल देश के मूल्यों और परंपरा के अनुकूल नहीं है ! आज ज़रूरत इस बात की है कि हम अपने हज़ारो साल पुरानी संस्कृति एवं परंपरा पर गौर-व्-फ़िक्र करें और  धर्म, जाति, भाषा आदि के आधार पर भेदभाव मिटाकर एकसाथ भारत को एक गौरवशाली देश बनाएं ! प्रोफेसर राठौर ने कहा कि इस विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों के साथ - साथ ज़्यादातर प्राध्यापकगण एवं कर्मचारी युवा हैं इसलिए वे सकारात्मक सोच के साथ आपसी रिश्तों को मजबूत कर देश के निर्माण में अहम भूमिका निभा सकते हैं !

 

इससे पहले सीयूएसबी में गणतंत्र दिवस समारोह की शुरुवात माननीय कुलपति को विवि के सुरक्षाकर्मियों द्वारा दिए गए गार्ड ऑफ ऑनर के ज़रिये हुआ ! राष्ट्रीयध्वज के उत्तोलन के पश्चात राष्ट्रीयगान गाया गया और मंच संचालन करते हुए विवि की छात्रा कृतिका एवं छात्र नचिकेता ने उपस्थित लोगों का अभिवादन किया ! माननीय कुलपति के संबोधन के बाद देशभक्ति की भावना को उजागर करते हुए विवि के विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया जिसने उपस्थित लोगों के दिल - व - दिमाग को देशभक्ति की भावना से भर दिया ! सांस्कृतिक कार्यक्रमों में शताब्दी एवं सिद्धार्थ ने ओड़िया लोक नृत्य प्रस्तुत किया, इसके अलावा लघु नाटक (सुभम एवं ग्रुप, सपन कुमार साहू एवं ग्रुप), ग्रुप सांग (नचिकेता एवं अपूर्व श्री), माउथ ऑर्गन (इंद्रजीत बनर्जी), नृत्य (अलंकृता ) एवं बंदे मातरम (प्रतिका एवं ग्रुप) आदि  प्रमुख थे ! 

 

सीयूएसबी के गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर डॉ० सनत कुमार शर्मा विवि के सांस्कृतिक गतिविधि समिति ने करवाया था जिसमें डॉ० अनिंद्य देब (सहायक प्राध्यापक, मीडिया), डॉ० अमृता श्रीवास्तव (सहायक प्राध्यापक, लाइफ साइंस), डॉ० आरती मिश्रा (सहायक प्राध्यापक, एजुकेशन), डॉ० प्रभात कुमार (सहायक प्राध्यापक, कंप्यूटर साइंस) एवं डॉ० सुधांशु झा (सहायक प्राध्यापक, हिस्ट्री) शामिल थे ! वहीँ कार्यक्रम को सुचारु रूप से आयोजित करने में विवि के प्राध्यापकगण डॉ० आतिश पराशर, डॉ० रेनू राय, डॉ० प्रशांत कुमार, डॉ० रवि कांत, डॉ० दिग्विजय सिंह एवं डॉ० ऋचा वत्स ने अहम भूमिका निभाई !

Campus


SH-7, Gaya Panchanpur Road, Village – Karhara, Post. Fatehpur, Gaya – 824236 (Bihar)

Contact


Reception: 0631 - 2229 530
Admission: 0631 - 2229 514 / 518
                        - 9472979367

 

Connect with us

We're on Social Networks. Follow us & get in touch.

Visitor Hit Counter :

13918571 Views

Search